भारत के राज्यों के प्रमुख त्यौहार | Bharat ke rajyon ke pramukh tyohar

नमस्कार दोस्तों, भारत एक सांस्कृतिक देश हैं जहाँ के हर एक राज्य में अलग-अलग संस्कृति और तीज त्यौहार हैं वर्तमान में भारत में कुल 28 राज्य और 8 केन्द्रशासित हैं और इन सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशो में अपने अलग-अलग तीज-त्यौहार हैं चलिए जानते हैं भारत के राज्यों के प्रमुख त्यौहार (Bharat ke rajyon ke pramukh tyohar) –

भारत के राज्यों के प्रमुख त्यौहार (Bharat ke rajyon ke pramukh tyohar) – 

Bharat ke rajyon ke pramukh tyohar

नंबर राज्य प्रमुख त्यौहार
1. राजस्थान पुष्कर मेला, गनगौर उत्सव
2. गुजरात रण उत्सव, नवरात्रि
3. महाराष्ट्र गणेश चतुर्थी, गुडी पड़वा, नागपंचमी
4. गोवा शिमगो मेला, कार्निवल, सेंट फ्रांसिस जेवियर
5. हरियाणा  लोहड़ी, बैसाखी
6. पंजाब लोहड़ी, बैसाखी
7. कर्नाटक मैसूर दशहरा, उगादी
8. केरल ओणम, विशु
9. तमिलनाडु पोंगल, जल्लीकट्टू
10. ओड़िसा रथयात्रा, राजा पर्व
11. आँध्रप्रदेश पोंगल
12. तेलंगाना बोनालू
13. मध्यप्रदेश खजुराहो नृत्य महोत्सव, दिवाली
14. छत्तीसगढ़ हरेली, तीजा-पोला, दिवाली, माघी-पूर्णिमा
15. झारखण्ड सरहुल, करम उत्सव, होली
16. बिहार छठ पूजा
17. उत्तरप्रदेश नवरात्रि, रामनवमी
18. पश्चिम बंगाल दुर्गा पूजा
19 उत्तराखंड फुल देई
20. हिमांचल प्रदेश कुल्लू दशहरा, गोची महोत्सव
21. सिक्किम लोसर, सागा दावा
22. अरुणाचल प्रदेश लोसार समारोह, सियांग नदी महोत्सव
23. असम बिहू
24. मिजोरम चपचार कूट महोत्सव
25. त्रिपुरा गरिया पूजा
26. मणिपुर योहोहंग, लुई-नागाई-नी
27. नागालैंड हार्नबिल त्यौहार, सेक्ररेनी 
28. मेघालय वांगला

भारत में कई प्रकार के त्यौहार मनाये जाते हैं, भारत के हर एक राज्य में भिन्न-भिन्न प्रकार के त्यौहार मनाते देखे जाते हैं.

भारत एक सांस्कृतिक देश हैं जहाँ विभिन्न प्रकार के धर्मं और जाति के लोग निवास करते हैं और इन सभी धर्म और जाति के लोगो द्वारा अलग अलग राज्यों में अलग अलग त्यौहार मनाये जाते हैं.

भारत में कुल 28 राज्य हैं और इन सभी राज्यों में उनकी अलग अलग प्रमुख त्यौहार भी हैं.

उत्तर प्रदेश के प्रमुख त्यौहार – 

उत्तरप्रदेश में मनाये जाने वाले प्रमुख त्यौहार रामनवमी और नवरात्रि हैं, भगवान राम का शासन पूर्व में उत्तरप्रदेश के अयोध्या में ही रहा हैं इसलिए इस राज्य में भगवान राम विशेष पूज्यनीय हैं.

  • रामनवमी – यह भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता हैं, इसे लडकियों और अन्य महिलाओ के पूजा के साथ मनाया जाता हैं.
  • नवरात्रि – नवरात्रि को नौ रातो तक मनाया जाता हैं, देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा इन नौ दिनों में किया जाता हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया जाता हैं.

बिहार के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के बिहार राज्य के प्रमुख त्योहारों में छठ पूजा विशेष हैं.

  • छठ पूजा – कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को छठा का त्यौहार मनाया जाता हैं बिहार के इस प्रमुख त्यौहार को कार्तिक माह के षष्ठी तिथि को मनाये जाने के ही कारण इस त्यौहार का नाम छठ पड़ा.

छठ पूजा में सूर्य देव की पूजा एवं उनकी उपासना किया जाता हैं, बिहार के इस प्रमुख त्यौहार को स्त्री और पुरुष दोनों समान रूप से मनाते हैं.

छठ त्यौहार को साल में दो बार मनाया जाया हैं, पहली बार चैत्र माह में वही दूसरी बार कार्तिक माह में.

चैत्र माह शुक्ल पक्ष षष्ठी को मनाये जाने वाले छठ को चैती छठ वही कार्तिक माह शुक्ल पक्ष षष्ठी को मनाये जाने वाले छठ को कार्तिकी छठ कहा जाता हैं.

महाराष्ट्र के प्रमुख त्यौहार – 

महाराष्ट्र भारत के पश्चिम में स्थित एक बड़ा राज्य हैं, इस राज्य में प्रमुख रूप से गुडी पड़वा, नाग पंचमी और गणेश चतुर्थी मनाया जाता हैं.

  • गुडी पड़वा – गुडी पड़वा महाराष्ट्र का प्रमुख त्यौहार हैं, गुडी पड़वा के दिन हिन्दू नववर्ष का प्रारंभ होता हैं, गुडी पड़वा को चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाता हैं.

        गुडी पड़वा को वर्ष प्रतिपदा या उगादी भी कहाँ जाता हैं, गुड़ी का अर्थ विजय पताका होता हैं.

  • नाग पंचमी – महाराष्ट्र राज्य में नाग पंचमी को विशेष रूप से मनाया जाता हैं, नाग पंचमी हिन्दुओ का त्यौहार हैं जिसे हिन्दू पंचांग के अनुसार सावन माह के शुक्ल पक्ष के पंचमी को मनाया जाता हैं.
  • गणेश चतुर्थी – वैसे तो गणेश चतुर्थी पूरे भारत भर में मनाया जाता हैं लेकिन महाराष्ट्र में बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता हैं, गणेश चतुर्थी को भगवान गणेश के जन्मदिन के दिन मनाया जाता हैं.

भगवान गणेश का जन्म भाद्रपद शुक्लपक्ष चतुर्थी को हुआ था इसी दिन गणेश भगवान की स्थापना की जाती हैं और फिर नौ दिनों तक उनकी पूजा अर्चना किया जाता हैं.

गुजरात के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के गुजरात राज्य के प्रमुख त्योहारों में रण उत्सव, नवरात्रि और जन्माष्टमी हैं.

  • रण उत्सव – रण उत्सव गुजरात के कच्छ में मनाया जाने वाला प्रमुख उत्सव हैं, गुजरात के कच्छ का यह महोत्सव पूरे तीन महीनो तक मनाया जाता हैं.

गुजरात राज्य के इस त्यौहार को आमतौर पर दिवाली के बाद नवम्बर माह से फ़रवरी माह तक मनाया जाता हैं.

  • जन्माष्टमी – जन्माष्टमी त्यौहार हिन्दुओ का त्यौहार हैं, जन्माष्टमी को भगवान कृष्ण के जन्मउत्सव के रूप में मनाया जाता हैं, भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद के कृष्णपक्ष अष्टमी को हुआ था.
  • नवरात्रि – नवरात्रि हिन्दुओ का एक प्रमुख त्यौहार हैं, नवरात्रि एक संस्कृत शब्द हैं जिसका अर्थ नौ राते हैं, इन नौ रातो और दस दिनों के दौरान देवी दुर्गा की पूजा की जाती हैं.

मध्यप्रदेश के प्रमुख त्यौहार – 

भारत का ह्रदय स्थल मध्यप्रदेश राज्य का प्रमुख त्यौहार खजुराहो नृत्य महोत्सव व लोकरंग महोत्सव हैं.

  • लोकरंग महोत्सव – मध्यप्रदेश राज्य के प्रमुख त्योहारों में से एक लोकरंग महोत्सव हैं यह त्यौहार प्रतिवर्ष 5 दिनों तक मनाया जाता हैं, मध्यप्रदेश के आदिवासी लोककला अकादमी द्वारा आयोजित किया जाता हैं.

लोककला महोत्सव प्रतिवर्ष 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के दिन शुरू होता हैं.

  • खजुराहो नृत्य महोत्सव – खजुराहो नृत्य महोत्सव मध्यप्रदेश के खजुराहो में मनाया जाता हैं, यह महोत्सव भारतीय शास्त्रीय नृत्य परम्परा पर आधारित हैं.

छत्तीसगढ़ के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के मध्य में स्थित कृषि प्रधान राज्य छत्तीसगढ़ का प्रमुख त्यौहार तीजा, पोला और हरेली हैं.

  • तीजा – तीजा त्यौहार को छत्तीसगढ़ में विशेष रूप से मनाया जाता हैं राज्य की महिलाओ द्वारा यह त्यौहार भादो मास के शुक्ल पक्ष तृतीय के दिन मनाया जाता हैं.
  • पोला – पोला त्यौहार छत्तीसगढ़ राज्य की प्रमुख त्यौहार हैं इस त्यौहार में राज्य के किसान अपने कृषि औजार और बैल की पूजा अर्चना करते हैं, छत्तीसगढ़ राज्य में यह त्यौहार भादो मास के कृष्ण पक्ष अमावस्या के दिन मनाया जाता हैं.
  • हरेली – हरेली त्यौहार हिन्दू पंचांग के अनुसार छत्तीसगढ़ का पहला त्यौहार हैं, यह त्यौहार सावन मास के कृष्ण पक्ष अमावस्या के दिन मनाया जाता हैं, यह त्यौहार मुख्य रूप से राज्य के यादव(राउत) समाज द्वारा मनाया जाता हैं.

हरियाणा के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के उत्तरी-पश्चिम राज्य हरियाणा के प्रमुख त्यौहार लोहड़ी और बैसाखी हैं साथ ही उत्तर भारत में मनाया जाने वाला प्रमुख त्यौहार हैं.

  • लोहड़ी – लोहड़ी त्यौहार उत्तर भारत के साथ साथ हरियाणा का भी प्रमुख त्यौहार हैं, इस त्यौहार को प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के एक दिन पहले अर्थात 13 जनवरी के दिन मनाया जाता हैं.

परम्परागत रूप से यह त्यौहार फसलो की बुवाई और उसकी कटाई से जुड़ा हैं, लोहड़ी त्यौहार सूर्यदेव और अग्नि पर समर्पित होता हैं.

  • बैसाखी – बैसाखी का त्यौहार प्रतिवर्ष 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता हैं, इस त्यौहार को बैसाख मास को मनाया जाता हैं, इस दिन गंगा नदी में स्नान का बड़ा महत्व रहता हैं, हरिद्वार और ऋषिकेश में बैसाखी पर्व पर मेला लगता हैं.

राजस्थान के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के पश्चिमी राज्य राजस्थान के प्रमुख त्यौहार पुष्कर मेला और गणगौर उत्सव हैं.

  • पुष्कर मेला – राजस्थान के पुष्कर का प्रमुख मेला जो कि पूरे भारत में प्रसिद्ध हैं, यह मेला वार्षिक पशुधन मेला हैं जो प्रतिवर्ष कार्तिक शुक्ल एकादशी से कार्तिक पूर्णिमा पे समाप्त होता हैं इस तरह से यह मेला 5 दिनों तक चलता हैं.
  • गणगौर उत्सव – गणगौर उत्सव राजस्थान राज्य के प्रमुख त्योहारों में से एक हैं, यह त्यौहार प्रतिवर्ष चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को मनाया जाता हैं.

गणगौर पूजा चैत्र नवरात्रि के तीसरे दिन किया जाता हैं, इस दिन सुहागन और कुंवारी कन्याए माता पार्वती और शिवजी की पूजा करते हैं.

पंजाब के प्रमुख त्यौहार – 

पंजाब राज्य के प्रमुख त्योहारों में लोहड़ी और बैसाखी आते हैं.

  • लोहड़ी – लोहड़ी त्यौहार उत्तर भारत के साथ साथ पंजाब का भी प्रमुख त्यौहार हैं, इस त्यौहार को प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के एक दिन पहले अर्थात 13 जनवरी के दिन मनाया जाता हैं.

परम्परागत रूप से यह त्यौहार फसलो की बुवाई और उसकी कटाई से जुड़ा हैं, लोहड़ी त्यौहार सूर्यदेव और अग्नि पर समर्पित होता हैं.

  • बैसाखी – बैसाखी का त्यौहार प्रतिवर्ष 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता हैं, इस त्यौहार को बैसाख मास को मनाया जाता हैं, इस दिन गंगा नदी में स्नान का बड़ा महत्व रहता हैं, हरिद्वार और ऋषिकेश में बैसाखी पर्व पर मेला लगता हैं.

उत्तराखंड के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के उत्तरी राज्य देवभूमि उत्तराखंड के प्रमुख त्यौहार फुल देई हैं.

  • फुल देई – उत्तराखंड का यह प्रमुख लोकपर्व हैं, इस पर्व को बच्चो द्वारा मनाये जाने के कारण बाल पर्व के नाम से भी जाना जाता हैं, इस दिन बच्चे घर-घर जाकर दरवाजे में फुल चढ़ाते हैं.

उत्तराखंड के प्रमुख त्यौहार फुल देई चैत्र मास के प्रथम तिथि को मनाया जाता हैं, 

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख त्यौहार – 

हिमांचल प्रदेश भारत के उत्तर में स्थित एक पहाड़ी राज्य हैं, इस राज्य के प्रमुख त्यौहार कुल्लू दहशरा और गोची महोत्सव हैं.

  • कुल्लू दहशरा – कुल्लू दहशरा हिमांचल प्रदेश के कुल्लू शहर में मनाया जाने वाला विश्व प्रसिद्ध मेला हैं, कहाँ जाता हैं इस मेले के दिन देवताओ का मिलन होता हैं.

लोग देवताओ के रथो को खीचते हुए ढोल नगाड़ो के धुनों में नाचते हुए मेले में आते हैं, 

  • गोची महोत्सव – इस महोत्सव में ग्रामीण लडको के जन्म का उत्सव मनाया जाता हैं.

लद्दाख के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के उत्तर में हिमालय पर्वत में बसा केन्द्रशासित प्रदेश लद्दाख का प्रमुख त्यौहार लोसर महोत्सव, हेमिस महोत्सव हैं.

  • लोसर महोत्सव – लोसर महोत्सव भारत के लद्दाख में मनाया जाता है, यह महोत्सव सर्दियों के दौरान मनाया जाने वाला एक प्रमुख सामाजिक धार्मिक त्यौहार हैं.
  • लद्दाख हार्वेस्ट महोत्सव – लेह में सितम्बर महीने में मनाया जाता हैं.
  • हेमिस महोत्सव – लद्दाख में हेमिस महोत्सव गुरु पद्मसंभव के जयंती पर मनाया जाता हैं.

जम्मू कश्मीर के प्रमुख त्यौहार – 

  • ट्यूलिप महोत्सव – ट्यूलिप महोत्सव जम्मू कश्मीर में मनाया जाने वाला प्रमुख महोत्सव हैं, कश्मीर में सैकड़ो ट्यूलिप गार्डन के साथ राज्य बसंत ऋतू के दौरान ट्यूलिप से समृद्ध होता हैं.

एशिया में सबसे बड़े ट्यूलिप गार्डन के साथ प्रतिवर्ष श्रीनगर ट्यूलिप गार्डन का आयोजन करता हैं, यह महोत्सव आमतौर पर अप्रैल मई के महीने में मनाया जाता हैं.

  • शिकारा महोत्सव – कश्मीर के डल झील में सकल 2016 से प्रतिवर्ष शिकार महोत्सव मनाया जाता हैं.
  • ईद-उल-फितर – रमजान के उपवास के अंतिम दिन को चिन्हित करने वाला त्यौहार.
  • ईद-उल-आझ – क़ुरबानी के लिए प्रमुख, इस दिन मुसलमान लोग भेड़, बकरियोंम ऊंटों का क़ुरबानी देते हैं.

झारखंड के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के पूर्वी राज्य झारखण्ड के प्रमुख त्यौहार सरहुल और करम उत्सव हैं.

  • सरहुल – सरहुल को प्रकृति का त्यौहार भी कहाँ जाता हैं, यह त्यौहार मुख्यत: फूलो के त्यौहार हैं, सरहुल को आदिवासियों का प्रमुख त्यौहार माना जाता हैं.

पतझड़ के बाद पेड़ो के टहनियों पर नये-नये पत्ते और फुल खिलते हैं, साल वृक्ष में खिलने वाले फूलो का सरहुल में विशेष महत्व होता हैं, चैत्र माह शुक्ल पक्ष तृतीय से शुरू होकर यह प्रकृति पर्व चार दिनों तक चैत्र पूर्णिमा तक चलता हैं.

  • करम उत्सव – यह झारखण्ड राज्य के आदिवासियों का प्रमुख पर्व/ त्यौहार हैं, इस दिन आदिवासी अच्छे फसल की कामना करते हुए पूजा करते हैं.

पश्चिम बंगाल के प्रमुख त्यौहार – 

पश्चिम बंगाल का प्रमुख त्यौहार दुर्गा पूजा हैं.

  • दुर्गा पूजा – इसे दुर्गोत्सव के रूप में जाना जाता हैं, इसे देवी दुर्गा की पूजा करके मनाया जाता हैं, दुर्गा पूजा को सितम्बर-अक्टूबर महीने में मनाया जाता हैं, इस राज्य के बंगालियों का मानना हैं कि देवी दुर्गा के आगमन के साथ कैलास से उनके मायके जाने वाले बच्चो के साथ पश्चिम बंगाल के सभी लोगो के बीच समृद्धि आएगी.

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पांच दिनों के लिए मनाई जाती हैं षष्टी, सप्तमी, अष्टमी, नवमी और दशमी.

सिक्किम के प्रमुख त्यौहार – 

सिक्किम भारत के उत्तर-पूर्व में स्थित छोटा सा पहाड़ी राज्य हैं, इस राज्य के प्रमुख त्यौहार लोसर और सागा दावा हैं.

  • लोसर – लोसर तिब्बती बौद्ध धर्म में एक त्यौहार हैं, यह उत्सव लद्दाखी नववर्ष की सुबह मनाया जाता हैं, यह उत्सव 15 दिनों तक चलता हैं, लोसर को बुरी आत्माओ से रक्षा और खुशहाल नई शुरुवात करने के लिए मनाया जाता हैं.
  • सागा दावा – सागा दाव सिक्किम का एक शुभ महिना होता हैं, इसे ट्रिपल धन्य महोत्सव के रूप में भी जाना जाता हैं, तिब्बती कैलेण्डर के चौथे महीने में जब सागा तारा आकाश में दिखाई देता हैं तब तिब्बती बौद्ध वर्ष का शुभ समय मानते हैं.

असम के प्रमुख त्यौहार – 

बिहू महोत्सव – असम राज्य में बिहू प्रमुख त्यौहार हैं, बिहू को कई अलग अलग नाम से भी जाना जाता हैं.

  • बोहग या रोंगली बिहू – यह असम राज्य में नए साल के शुरुवात में होता हैं, जो एक नये कृषि चक्र के शुरुवात को दर्शाता हैं.
  • कोंगाली बिहू – अच्छी फसल के लिए मनाया जाता हैं.
  • भोगली बिहू – फसलो की कटाई पर मनाया जाता हैं.

माजुली महोत्सव – इस महोत्सव को असम के माजुली द्वीप पर मनाया जाता हैं, यह असम के सबसे आधुनिक महोत्सव में से एक हैं.

अम्बुबाची मेला – इसे पूर्व क महाकुम्भ भी कहा जाता हैं, यह मेला गुवाहाटी के कामख्या मंदिर में मनाया जाता हैं.

मेघालय के प्रमुख त्यौहार – 

वांगला त्यौहार मेघालय का प्रमुख त्यौहार हैं.

  • वांगला – मेघालय राज्य के प्रमुख जनजातीय समूहो में से एक गारो जनजातीय द्वारा प्रमुख रूप से वांगला त्यौहार मनाया जाता हैं.

यह प्रजनन के सूर्य देवता, साजलोंग के सम्मान में आयोजित एक फसल उत्सव हैं.

वांगला महोत्सव वह अवसर होता हैं जब आदिवासी अपने मुख्य देवता साजलोंग सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए चदावा देते हैं.

अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख त्यौहार – 

लोसार समारोह, सियांग नदी उत्सव अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख त्यौहार हैं.

  • सियांग नदी उत्सव – सियांग नदी महोत्सव एक प्रसिद्ध त्यौहार हैं, इस त्यौहार को मुख्य रूप से हार साल दिसम्बर के महीने में उत्तरी राज्य अरुणाचल प्रदेश के कई हिस्सों में मनाया जाता हैं.

सियांग नदी महोत्सव मनाने का प्रमुख उद्देश्य राज्य के पर्यटन और संस्कृति को बढावा देना हैं.

  • लोसार समारोह – इस उत्सव को अरुणाचल प्रदेश के मोनपा जनजातियो द्वारा मनाया जाता हैं, मोनपा जनजाति के लोगो को अरुणाचल प्रदेश का स्थाई निवासी माना जाता हैं.

लोसार 3 दिनों का त्यौहार हैं जिसे खासतौर पर राज्य के तवांग में मनाया जाता हैं.

मणिपुर के प्रमुख त्यौहार – 

मणिपुर के प्रमुख त्योहारों में लुई-नगाई-नी और योहोहंग सबसे प्रमुख हैं.

  • लुई-नगाई-नी – यह मुख्य रूप से मणिपुर के नागा जनजातियो द्वारा मनाया जाने वाला एक बीज बोने का त्यौहार हैं.

यह त्यौहार बीज बोने के मौसम की शुरुवात और नागाओ के लिए नए वर्ष की शुरुवात को दर्शाता हैं, इस उत्सव के दिन राज्य में सरकारी अवकाश घोषित हैं.

  • योहोहंग – यह मणिपुर में मनाई जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक हैं.

नागालैंड के प्रमुख त्यौहार – 

नागालैंड के प्रमुख त्यौहार हार्नबिल और सेक्ररेनी हैं.

  • हार्नबिल त्यौहार – इस त्यौहार का आयोजन प्रत्येक वर्ष राज्य स्थापना दिवस 1 दिसम्बर को मनाया जाता हैं.

इस त्यौहार की शुरुवात सर्वप्रथम साल 2000 में नागालैंड सरकार द्वरा आयोजित कराई गई थी जिसका मुख्य उद्देश्य राज्य में नागा जनजातियो को आपस में एक दूसरे से परिचित कराना व देश दुनिया में नागा समाज की संस्कृति से रूबरू कराना हैं.

  • सेक्ररेनी – यह राज्य के अंगामी जनजातियो द्वारा मनाया जाता हैं, यह जनजातियो की समृद्ध संस्कृति के जश्न से जुड़ा हुआ हैं जो नागालैंड में कई वर्षो से चली आ रही हैं.

मिजोरम के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के उत्तरी राज्य मिजोरम के प्रमुख त्यौहार चपचार कूट और पावल कूट हैं.

  • चपचार कूट – चपचार कूट मिजोरम राज्य का एक प्रमुख त्यौहार हैं, यह त्यौहार मार्च महीने के दौरान झूम खेती के सबसे कठिन कार्य पूरा होने के बाद मनाया जाता हैं, यह एक वसंत त्यौहार हैं जिससे अत्यंत श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाया जाता हैं.
  • पावल कूट – पावल कूट महोत्सव मिजोरम राज्य में प्रमुखता से मनाया जाता हैं, मूल रूप से यह एक फसल उत्सव हैं जिसे यहाँ के लोग भरपूर फसल देने के लिए सर्वशक्तिमान को धन्यवाद देने के रूप में पावल कूट मनाते हैं. 

त्रिपुरा के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के उत्तरी राज्य त्रिपुरा के प्रमुख त्यौहार गरिया पूजा हैं.

  • गरिया पूजा – त्रिपुरा राज्य में प्रमुखता से गरिया पूजा त्यौहार मनाया जाता है, इस त्यौहार को चैत्र महीने के अंतिम दिन मनाया जाता हैं.

इसे इस राज्य के दो जनजातियो त्रिपुरी और रिंग्स द्वारा एक फसल उत्सव के रूप में मनाया जाता हैं, गरिया पूजा 7 दिनों तक मनाया जाता हैं जो बैसाख महीने के सातवे दिवस मनाया जाता हैं.

उड़ीसा के प्रमुख त्यौहार – 

भारत के पूर्वी राज्य ओड़िसा के प्रमुख त्योहारों में रथयात्रा और राजा पर्व हैं.

  • जगन्नाथ रथयात्रा – जगन्नाथ रथयात्रा ओड़िसा का प्रसिद्ध त्यौहार हैं यह त्यौहार ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व होने के कारण पूरे भारत में प्रसिद्ध हैं.

भगवान जगन्नाथ जी की रथयात्रा आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीय को प्रारंभ होती हैं जो आषाढ़ शुक्ल पक्ष के 11वे दिन भगवान जगन्नाथ की वापसी के साथ इस यात्रा का समापन होता हैं.

  • राजा पर्व – इस त्यौहार को रजा पर्व या परबा या मिथुन संक्रांति के नाम से भी जाना जाता हैं, यह ओड़िसा राज्य में मनाया जाने वाला 3 दिवसीय नारीत्व त्यौहार हैं.

राजा पर्व को स्विंग फेस्टिवल के नाम से भी जाना जाता हैं, इस त्यौहार को मुख्य रूप से जून या जुलाई माह के आसपास मनाया जाता हैं.

तेलंगाना के प्रमुख त्यौहार – 

तेलंगाना का प्रमुख त्यौहार बोनालू हैं.

  • बोनालू – यह तेलंगाना राज्य का वार्षिक त्यौहार हैं, जो राज्य के हैदराबाद, सिकंदराबाद और तेलंगाना के अन्य हिस्सों में प्रमुखता से मनाया जाता हैं.

बोनालू या देवी महाकाली एक हिन्दू त्यौहार हैं जिसमे देवी महाकाली की पूजा की जाती हैं, यह त्यौहार मुख्य रूप से आषाढ़ माह अर्थात जुलाई या अगस्त के महीने में मनाया जाता हैं.

मन्नत पूर्ति के लिए देवी को धन्यवाद करने के लिए यह उत्सव मनाया जाता हैं.

कर्नाटक के प्रमुख त्यौहार – 

कर्नाटक के प्रमुख त्योहारों में मैसूर दशहरा और उगादी हैं.

  • मैसूर दशहरा – मैसूर दशहरा कर्नाटक राज्य का उत्सव हैं शेष भारत में इसे नदहबा के नाम से भी जाना जाता हैं, यह एक 10 दिवसीय त्यौहार हैं जो नवरात्रि के 9 रातो और आखिरी दिन विजयदशमी होती हैं.

हिन्दू कैलेण्डर के अश्विन महीने के 10वे दिन इसे मनाया जाता हैं.

  • उगादी – उगादी को कर्नाटक में नए साल के रूप में मनाया जाता हैं.

आंध्र प्रदेश के प्रमुख त्यौहार – 

भारत का दक्षिणी राज्य आँध्रप्रदेश के प्रमुख त्यौहार पोंगल हैं.

  • पोंगल – पोंगल दक्षिण भारत के हिन्दुओ का एक प्रमुख त्यौहार हैं, आँध्रप्रदेश के अलावा यह त्यौहार दक्षिण के कई अन्य राज्यों में भी मनाया जाता हैं.

प्रतिवर्ष पोंगल को 13 से 14 जनवरी के बीच मनाया जाता हैं, इसे शीतकालीन संक्रांति के रूप में मनाया जाता हैं.

पारम्परिक हिन्दू प्रणाली के अनुसार जब सूर्य अपने सबसे दक्षिणी बिंदु पर पहुचकर उत्तर की ओर मुड़ता हैं तब वह मकर राशि में प्रवेश करता हैं आमतौर पर यह 14 जनवरी को होता हैं.

दक्षिण भारत में इसे नए साल के त्यौहार के रूप में भी माना जाता हैं.

तमिलनाडु के प्रमुख त्यौहार – 

तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्यौहार जल्लीकट्टू और पोंगल हैं.

  • पोंगल – पोंगल तमिलनाडु के साथ-साथ दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला एक फसल त्यौहार हैं, इसे मुख्य रूप से तमिलनाडु के अलावा आँध्रप्रदेश, कर्नाटक और पांडिचेरी में भी मनाया जाता हैं.

पोंगल शब्द तमिल साहित्य से आया हैं, जिसका अर्थ उबलना या उमड़ना हैं.

आमतौर पर इसे कई जगह चार दिनों तक मनाया जाता हैं और इन सभी चार दिन इसे अलग अलग नाम से जाना जाता हैं पहले दिन इसे भोंगी पोंगल दूसरे दिन सूर्य पोंगल, तीसरे दिन मट्टू पोंगल और चौथे दिन कनुम पोंगल कहा जाता हैं.

पोंगल उत्सव तमिल लोगो के लिए बहुत मूल्यवान होता हैं, इस उत्सव की शुरुवात प्रतिवर्ष 13 जनवरी से शुरू होता हैं.

  • जल्लीकट्टू – जल्लीकट्टू तमिलनाडु राज्य में मनाया जाने वाला एक खेल महोत्सव हैं, यह इस राज्य के ग्रामीण इलाके की एक पारम्परिक खेल हैं, इसे पोंगल त्यौहार के समय आयोजित कराया जाता हैं.

इस खेल में सांडो की लड़ाई इंसानों से कराई जाती हैं, ये सांड गाँव की सबसे बुजुर्ग सांड होती हैं जिन्हें कोई नही पकड़ता इन्हें शान माना जाता हैं.

जल्लीकट्टू को तमिलनाडु राज्य के गौरव तथा संस्कृति का प्रतिक माना जाता हैं, यह खेल 2000 साल पुराना हैं जो राज्य के संस्कृति से जुड़ा हैं.

केरल के प्रमुख त्यौहार – 

भारत का दक्षिणी राज्य केरल के प्रमुख त्यौहार ओणम और विशु हैं.

  • ओणम – ओणम केरल का राजकीय त्यौहार हैं, ओणम उत्सव मलयालम सोलर कैलेण्डर के अनुसार चिंगम मास में भगवान वामन की जयंती और राजा बलि के स्वागत में प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता हैं जो 10 दिनों तक चलता हैं.

ओणम उत्सव केरल राज्य के त्रिक्काकरा जो कि इस राज्य का एकमात्र वामन मंदिर से शुरू होता हैं.

ओणम को मलयालम भाषा में थिरुओणम भी कहा जाता हैं.

  • विशु – विशु केरल राज्य का एक प्रमुख त्यौहार हैं, यह केरल के लोगो के लिए नव-वर्ष का दिन होता हैं इसे मलयालम महीने (मेदम) मेष के प्रथम तिथि  को मनाया जाता हैं.

विशु का मलयालम में अर्थ नया साल होता हैं, केरल में इसी उत्सव विशु के दिन से धान बुवाई का कार्य शुरू किया जाता हैं.

गोवा के प्रमुख त्यौहार – 

भारत का सबसे छोटा राज्य गोवा के प्रमुख त्यौहार कार्निवल,सेंट फ्रांसिस जेवियर त्यौहार हैं.

  • कार्निवल – गोवा कार्निवल त्यौहार गोवा राज्य में मनाया जाने वाला एक जीवंत और रंगीन त्यौहार हैं जिसे गोवा में प्रत्येक वर्ष मनाया जाता हैं.

यह त्यौहार भारत के प्रसिद्ध सांस्कृतिक कार्यक्रमों में से एक हैं जो दुनिया भर से आये हुए लोगो को आकर्षित करता हैं, यह त्यौहार फ़रवरी माह के अंत या मार्च माह के शुरुवात में शुरू होता हैं जो दिनों तक होता हैं.

  • सेंट फ्रांसिस जेवियर – यह त्यौहार हर साल गोवा में 3 दिसम्बर को श्रद्धेय संत सेंट फ्रांसिस जेवियर की पुण्यतिथि पर मनाया जाता हैं.
  • शिम्मो मेला – यह मेला भारतीय राज्य गोवा में मनाया जाने वाला एक वसंत त्यौहार हैं, यह इस राज्य के हिन्दुओ के प्रमुख त्योहारों में से एक हैं, इसे कोंकड़ी समुदाय द्वारा भी मनाया जाता हैं भारतीय त्यौहार होली भी इसका हिस्सा हैं.

सवाल-जवाब (FAQ) –

ओणम किस राज्य का प्रमुख त्यौहार हैं?

ओणम दक्षिण भारत में मनाया जाने वाला प्रमुख त्यौहार हैं, यह त्यौहार दक्षिण भारत के राज्य केरल का प्रमुख त्यौहार हैं यह इस प्रदेश का राजकीय त्यौहार भी हैं केरल के इस त्यौहार को इस राज्य के मलयालम कैलेण्डर सोलर कैलेण्डर के अनुसार चिंगम मास में भगवान वामन की जयंती और राजा बलि के स्वागत के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता हैं.

तमिलनाडु के प्रमुख त्यौहार जल्लीकट्टू में किसका लड़ाई कराया जाता हैं?

जल्लीकट्टू तमिलनाडु राज्य का एक प्रमुख उत्सव या त्यौहार हैं जिसका आयोजन इस राज्य में प्रत्येक वर्ष पोंगल त्यौहार के समय किया जाता हैं इस त्यौहार में सांड और इंसानों के बीच खेल के रूप में लड़ाई कराया जाता हैं ये सांड मुख्य रूप से गाँव के सबसे बुजुर्ग सांड होते हैं जिन्हें कोई नही पकड़ता इन्हें शान माना जाता हैं.

इसे भी पढ़े – 

भारत के सभी मुख्यमंत्री के नाम 2023

भारत के सभी मंत्रियों के नाम 2023

भारत के 15 प्रधानमंत्री कौन है(1947-2023)

भारत के राष्ट्रपतियों की सूची और उनका कार्यकाल 1950-2023

आज कौन सा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया जाता हैं

दोस्तों, जानकारी अच्छी लगी हो तो बाए तरफ के बेलआइकॉन को दबाकर subscribe जरुर करें, धन्यवाद दोस्तों.

Leave a Comment