आज कौन सा व्रत है 2023 | आज कौन सा उपवास है | aaj kaun sa vrat hai | aaj ka vrat

नमस्कार दोस्तों, भारत में हमारें धार्मिक ग्रंथों के अनुसार बहुत सारे व्रत उपवास सुझाए गए हैं, जिसका अपना अलग ही महत्त्व हैं, तो चलिए जानते हैं आज कौन सा व्रत है –  

आज कौन सा व्रत है | आज कौन सा उपवास है

  • 16 फरवरी –
  • माघ पूर्णिमा व्रत

आज 16 फरवरी को माघ पूर्णिमा व्रत हैं, यह व्रत हिन्दू धर्म में बहुत ही खास हैं, इसी दिन सुबह-सुबह स्नान करके भगवान विष्णु की पूजा की जाती हैं. 

इसे भी पढ़े –

आज कौन सा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दिवस है

आज कौन सा त्यौहार हैं 2021

दोस्तों जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरुर करें और ऐसे ही व्रत, त्यौहार और दिवस की जानकारी के लिए aaj ka tyohar पर बने रहें, धन्यवाद दोस्तों.

पुराने व्रत और उपवास –

14 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी व्रत हैं, यह दिवस हिन्दू धर्म में बहुत ही खास हैं, इसी दिन भगवान कृष्ण ने अर्जुन को गीता सार का उपदेश दिया था.

  • 2 दिसंबर –
  • प्रदोष व्रत
  • मासिक शिवरात्रि

2 दिसंबर को प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि व्रत हैं, इस दिन लोग उपवास रखते हैं और भगवान शिव की पूजा करते है, धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मासिक शिवरात्रि और प्रदोष व्रत का संयोग बेहद शुभ और खास होता है।

  • 15 नवंबर – देवउठनी एकादशी

आज 15 नवंबर को देवउठनी एकादशी का व्रत हैं, इस दिन लोग उपवास रखते हैं और शाम को गन्ने रखकर भगवान विष्णु की पूजा करते हैं.

महानवमी व्रत हैं, नवरात्री में इस दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती हैं, यह नवरात्री का नौवा और आखिरी दिन हैं. 

  • 14 अक्टूबर – महानवमी व्रत

अनंत चतुर्दशी का व्रत हैं, इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा की जाती हैं, भगवान विष्णु का कोई अंत नहीं हैं इसीलिए इसे अनंत कहा जाता हैं. 

  • 19 सितंबर – अनंत चतुर्दशी व्रत

इस व्रत को पुरुष और महिला दोनों रखते हैं, इस व्रत से पुरुषों को लौकिक एश्वर्या और महिलायों को चिर सौभाग्य मिलता हैं, इसी दिन आप स्नान के पश्चात एक कलश की स्थापना करके उसमें भगवान विष्णु की फोटो या मूर्ति रखकर पूजा करें और व्रत का संकल्प ले.

11 सितंबर को ऋषि पंचमी का व्रत हैं, गणेश चतुर्थी के दुसरे दिन यह दिवस आता हैं, भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर ऋषि पंचमी का व्रत आता हैं.

  • 11 सितंबर – ऋषि पंचमी व्रत

इस दिन व्रत रखकर सप्त ऋषियों की पूजा की जाती हैं, पुराने मान्यताओं के अनुसार इस दिन उपवास रखने से धन, समृद्धि और संतान की कामना पूर्ण होती हैं.

10 सितंबर को गणेश चतुर्थी व्रत हैं, आज से ही गणेश उत्सव प्रारंभ होता हैं, इस दिन श्रद्धालुगण उपवास रखकर भगवान गणेश की पूजा करते हैं.

  • 10 सितंबर – गणेश चतुर्थी व्रत

9 सितंबर को हरितालिका तीज का व्रत हैं, इस दिन विवाहित महिलाए व्रत रखती हैं और अपने पति की लम्बी उम्र के लिए कामना करती हैं, इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती हैं. 

  • 9 सितंबर – हरितालिका तीज व्रत

30 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का व्रत हैं, यह त्यौहार हिंदू धर्म में बहुत ही खास हैं, इस त्यौहार पर श्रद्धालु उपवास रखते हैं, साथ ही शाम को जगह-जगह मटकी फोड़ प्रतियोगिता रखी जाती हैं. 

  • 30 अगस्त – श्रीकृष्ण जन्माष्टमी व्रत

28 अगस्त, शनिवार को हलषष्ठी व्रत हैं, इस व्रत को सभी माताएं अपने संतान की लम्बी आयु के लिए रखती हैं. 

  • 28 अगस्त – हलषष्ठी व्रत

इस दिन व्रत रखने वाली महिलाएं मऊहा पेड़ का दातुन करती हैं, शाम को सभी महिलाएं 2 गड्ढा खोदकर षष्ठी माता का चित्र बनाती हैं.

उसके साथ गौरी गणेश और भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भैय्या बलराम की पूजा करती हैं, उसके बाद तिन्नी का चावल खाकर अपना व्रत तोड़ती हैं.

16 अगस्त सोमवार को सावन का चौथा सोमवार हैं, आज सावन का चौथा सोमवार व्रत हैं, इस दिन श्रद्धालु उपवास रखते हैं और भगवान शिव की पूजा करते हैं, सावन में कुल 5 सोमवार का व्रत रखते हैं.

  • चौथा सोमवार – 16 अगस्त

हरियाली तीज का व्रत हैं, इस दिन नवविवाहित महिलाए अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं और भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करती हैं.

  • व्रत – हरियाली तीज

आज 2 अगस्त को सावन का दूसरा सोमवार हैं, सावन के महीनें को भगवान शिव का महिना कहाँ जाता हैं, सावन में पुरे 5 सोमवार तक श्रद्धालु उपवास और व्रत रखते हैं.

सावन महीने में कई श्रद्धालुगण पैदल शिवमंदिर तक यात्रा करते हैं, ये महिना किसानों के लिए भी बहुत अच्छा हैं, इस महीने फसल हरें भरे हो जाते हैं, इस महीने हरियाली का त्यौहार भी मनाया जाता हैं.

26 जुलाई को सावन के पहले सोमवार का व्रत हैं, जिसमें सभी श्रद्धालु सावन के पहले सोमवार को भगवान शिव की पूजा करते हैं और उपवास रखते हैं.

21 जून को निर्जला एकादशी का व्रत हैं, निर्जला एकादशी के व्रत को बगैर अन्न और जल के रखा जाता हैं, निर्जला एकादशी व्रत में भगवान विष्णु की पूजा की जाती हैं.

Leave a Comment