आज कौन सा त्यौहार है 2023 | aaj kaun sa tyohar hai 2023 | आज क्या है त्यौहार

नमस्कार दोस्तों, भारत को त्यौहारों का देश कहाँ जाता हैं, हमारें भारत में साल में कई त्यौहार होते हैं, तो चलिए जानते हैं, साल 2023 में आज कौन सा त्यौहार है (aaj kaun sa tyohar hai) – 

आज कौन सा त्यौहार है | aaj kaun sa tyohar hai | आज क्या है त्यौहार

  • 10 सितंबर – गणेश चतुर्थी

10 सितंबर को गणेश चतुर्थी का त्यौहार हैं, आज से गणेशोत्सव प्रारंभ हो जायेगा.

आज जगह -जगह भगवान गणेश की मूर्ति रखी जाती हैं और अगले 11 दिनों तक भगवान गणेश की पूजा की जाती हैं.

इसे भी पढ़े –

आज कौन सा दिवस हैं

आज कौन सी जयंती हैं

कल का क्रिकेट मैच कौन जीता

दोस्तों अगर जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरुर करें और रोजाना क्या त्यौहार है जानने के लिए aajkatyohar में बने रहें, धन्यवाद दोस्तों.

पुराने त्यौहार – 

  • 17 सितंबर –
  • भगवान विश्वकर्मा पूजा

17 सितंबर रविवार के दिन भगवान विश्वकर्मा पूजा का त्यौहार हैं, भारत यह त्यौहार बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं.

इस दिन भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति रखी जाती हैं और पूजा की जाती हैं.

भगवान विश्वकर्मा देवताओं के शिल्पिकार थे, इस दिन सभी तरह के मशीन और उपकरण की पूजा की जाती हैं. 

  • 14 सितंबर – पोला त्यौहार

14 सितंबर को पोला का त्यौहार हैं, पोला त्यौहार में विशेष रूप से बैल की पूजा की जाती हैं, हमारें भारत में पहले कृषि के कार्यों के लिए बैल का उपयोग किया जाता था.

भारत एक कृषि प्रधान देश हैं, पहले बैल के माध्यम से ही कृषि के कार्य पुरे होते थे और किसान भाई पैसा कमाते थे, इसीलिए बैल को पशुधन भी कहा जाता हैं.

इस दिन बैलों को सजाकर उनकी पूजा की जाती हैं और जगह-जगह बैल दौड़ का आयोजन भी किया जाता हैं.

9 सितंबर को हरितालिका तीज का त्यौहार हैं, पुरे भारत में यह त्यौहार बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता हैं,इस दिन विवाहित महिलाए उपवास रखकर अपने पति के लम्बी आयु की कामना करती हैं. 

  • 9 सितंबर – हरितालिका तीज

पौराणिक कथा के अनुसार इस दिन माता पार्वती ने भगवान शिव के लिए इस दिन उपवास रखी थी, इस दिन विवाहित महिलाए उपवास रखकर भगवान शिव की पूजा करती हैं.

  • 6,7 सितंबर
  • कृष्ण जन्माष्टमी

6 और 7 सितंबर को कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार हैं, यह दिवस हिंदू धर्मं में बहुत ही खास त्यौहार हैं. 

इस त्यौहार में व्रत रखकर भगवान श्रीकृष्ण की पूजा की जाती हैं, इस दिन जगह-जगह दही लूट प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है. 

इस त्यौहार को पुरे भारत में बड़े धूम-धाम से मनाया जाता हैं. 

  • 22 अप्रैल –
  • भगवान परशुराम जयंती त्यौहार

22 अप्रैल को भगवान परशुराम जयंती है, भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छठवें अवतार थे.

भगवान परशुराम जन्म वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की अक्षय तृतीया के दिन हुवा था.

इस दिन को पुरे भारत में त्यौहार की तरह मनाया जाता हैं.

भगवान परशुराम ने हैहय वंश के क्षत्रियों का विनाश किया था, हैहय वंश के राजा सहस्त्रार्जुन लगातार ऋषियों और ब्राह्मणों पर अत्याचार कर रहें थे.

  • 14 अप्रैल –
  • बैसाखी त्यौहार

14 अप्रैल को बैसाखी का त्यौहार है.

बैसाखी त्यौहार सिक्ख समुदाय के लोगों के लिए बहुत ही खास हैं.

इस दिन को सिक्ख समुदाय के लोग नए साल के रूप में मनाते हैं.

  • 15-18 जनवरी – पोंगल

15-18 जनवरी को पोंगल का त्यौहार हैं, यह त्यौहार दक्षिण भारत में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं.

पोंगल का अर्थ होता हैं उबलना, इसमें गुड और चावल को उबालकर प्रसाद बनाया जाता हैं और भगवान सूर्यदेव को चढ़ाया जाता हैं.

यह त्यौहार पुरे तरह से प्रकृति को समर्पित हैं, इस त्यौहार में नए धान का चावल निकालकर उसका गुड के साथ प्रसाद बनाते है.

साथ ही घर और बैलो को साफ सुधरा किया जाता हैं और बहने अपने भाई की लंबी कामना करती हैं.

 यह त्यौहार 4 दिनों तक चलता हैं, इस बार 15 से 18 जनवरी तक पोंगल का त्यौहार हैं.

  • 14 जनवरी –
  • मकर सक्रांति दिवस

14 जनवरी को मकर सक्रांति दिवस हैं, मकर सक्रांति के दिन सूर्य मकर राशी में प्रवेश करती हैं.

यह दिन हिन्दू धर्म में एक त्यौहार की तरह होता हैं, इस दिन लोग तिल के लड्डू और गुड का सेवन करते हैं. 

  • 29 दिसंबर – 

29 दिसंबर को गुरु गोविंद सिंह जयंती हैं, जों सिक्ख समुदाय के लिए त्यौहार की तरह हैं.

वे सिक्ख धर्म के 10वें गुरु थे, गुरु गोविंद सिंह का जन्म 22 दिसंबर 1666 को हुवा था.

वहीँ हिंदी कैलेंडर के अनुसार पौष माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी यानी कि 29 दिसंबर 2022 को गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाई जाएगी.

गुरु गोबिंद सिंह जी ने ही 1699 में खालसा पंथ की स्थापना की थी.

  • गुरु तेग बहादुर शहीद दिवस

कल 24 नवम्‍बर को गुरु तेग बहादुर शहीद दिवस हैं,इस दिन को सिक्ख धर्म में एक त्यौहार की तरह मनाया जाता हैं.

गुरु तेग बहादुर सिखों के नौवें गुरु थे, सिर्फ 14 वर्ष की आयु में अपने पिता के साथ मुगलों के हमले के खिलाफ हुए युद्ध में उन्होंने अपनी वीरता दिखाई थी।

इस वीरता से प्रभावित होकर उनके पिता ने उनका नाम तेग बहादुर यानी तलवार के धनी रख दिया।

  • 13 अक्टूबर – 
  • करवा चौथ दिवस

आज 13 अक्टूबर को करवा चौथ का त्यौहार हैं, यह त्यौहार पुरे भारत में बड़े धूमधाम से मनाया जाता हैं.

इस दिन सुहागिन महिलाए अपने पति की लम्बी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं और रात को चाँद और अपने पति को देखकर व्रत तोड़ती हैं.

इस दिन पति भी अपने पत्नी के लिए नए कपड़े और श्रृंगार का सामान लाते हैं.

  • 9 अगस्त 
  • मुहर्रम

मुहर्रम का त्यौहार हैं, हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद में यह त्यौहार मनाया जाता हैं.

मुहर्रम के दिन हजरत इमाम हुसैन की शहादत कर्बला में हुई थी, यह त्यौहार मातम का पर्व हैं, जो हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद दिलाता हैं.

इस दिन हजरत इमाम हुसैन की शहादत को याद करने के लिए मुस्लिम समुदाय के लोग जुलुस निकलते हैं, जिसमें वे ताजिया निकालते हैं. 

  • 13 जुलाई 
  • गुरु पूर्णिमा 

13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा का त्यौहार है, यह दिन सभी धार्मिक गुरु और शिक्षकों के लिए सम्मान के तौर पर मनाया जाता हैं. 

आज ही के दिन महान गुरु महर्षि वेदव्यास का जन्म हुवा था, ये दिन पुरे भारत में एक त्यौहार की तरह मनाया जाता हैं.

  • 10 जुलाई 
  • बकरीद, ईद अल अजहा

10 जुलाई को बकरीद का त्यौहार है, इसे ईद अल अजहा भी कहते हैं, मुस्लिम समुदाय के लिए यह त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण हैं.

रमजान महीने के 70वे दिन बकरीद मनाया जाता हैं, बकरीद को कुर्बानी का दिन कहा जाता हैं. 

कहते हैं की इस दिन अल्लाह के कहे जाने पर हजरत इब्राहिम अपने पुत्र हजरत इस्माइल की कुर्बानी अल्लाह को देने जा रहे थे.

लेकिन अल्लाह ने ये देख इस्माइल की जगह एक दुम्बे को रख दिया, जिससे हजरत इस्माइल को जीवनदान मिला, उन्हीं की याद में बकरीद मनाते हैं. 

  • 16 अप्रैल –
  • हनुमान जयंती

16 अप्रैल को भगवान हनुमान जयंती का त्यौहार है, भगवान हनुमान का जन्म चैत्र मॉस की पूर्णिमा के दिन हुवा था.

  • 15 अप्रैल –
  • गुड फ्राइडे

15 अप्रैल को गुड फ्राइडे का त्यौहार है, यह त्यौहार ईसाई धर्म के लोगों के लिए बहुत ही खास हैं.

इस दिन प्रभु ईशा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था, इस दिन को लोग कुर्बानी के तौर पर याद रखते हैं.

14 अप्रैल को बैसाखी का त्यौहार है, यह त्यौहार सिक्ख समुदाय के लोगों के लिए बहुत ही खास हैं.

इस दिन को सिक्ख समुदाय के लोग नए साल के रूप में मनाते हैं, सिक्ख समुदाय के लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलकर इस त्यौहार को बड़े धूम-धाम से मनाते हैं.

इस दिन लोग सुबह स्नान करके तैयार हो जाते हैं और गुरुद्वारा जाते हैं, इस दिन जगह-जगह लंगर लगाया जाता हैं.

  • 2 अप्रैल –
  • चैत्र नवरात्रि शुरू

2 अप्रैल को चैत्र नवरात्रि का त्यौहार शुरू है, चैत्र नवरात्रि 2 अप्रैल से शुरू होगा और 11 अप्रैल तक चलेगा.

ये 9 दिन पुरे भारत में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाए जाते हैं, नवरात्री के 1 दिन पहले जौ बोए जाते हैं, इससे माँ दुर्गा की उपासना पूरी होती हैं.

  • 17 मार्च – होलिका दहन
  • 18 मार्च – होली त्यौहार

17 मार्च को होलिका दहन और 18 मार्च को होली त्यौहार है, होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत कहाँ जाता हैं. 

वहीँ होली त्यौहार के दिन लोग रंग गुलाल लगाकर खुशियाँ मनाते हैं, यह त्यौहार पुरे भारत में और विश्व के कई देशों में बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता हैं.

  • 1 मार्च –
  • महाशिवरात्रि

1 मार्च को महाशिवरात्रि का त्यौहार हैं, यह त्यौहार हिन्दू धर्म के लिए बहुत ही खास हैं, इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती हैं.

यह त्यौहार पुरे देश भर में मनाया जाता हैं, इस दिन श्रद्धालु लोग सुबह जल्दी उठकर स्नान करके भगवान शिव की पूजा करते हैं और उपवास रखते हैं.

  • 16 फरवरी –
  • माघ पूर्णिमा त्यौहार

16 फरवरी को माघ पूर्णिमा दिवस हैं, इसे माघी पूर्णिमा भी कहते हैं, हिन्दू धर्म में इस दिन को बहुत पवित्र माना जाता हैं.

इस दिन सुबह-सुबह स्नान करके व्रत रखते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करते हैं, जिससे जीवन में सुख समृध्दी आती हैं.

15 फरवरी को हजरत अली जयंती हैं, जिसके उपलक्ष्य में शिया मुस्लिम समुदाय के लोग त्यौहार मानते हैं, हजरत अली शिया मुस्लिम समुदाय के पहले इमाम थे.

हजरत अली का जन्‍म इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार 13 रज्जब 24 हिजरी पूर्व मुसलमानों के तीर्थ स्थल काबा में हुआ था, साल 2022 में 15 फरवरी को हजरत अली जयंती मनाया जाएगा.

14 फरवरी को वैलेंटाइन सप्ताह का आखिरी दिन हैं, 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे त्यौहार हैं.

इस दिन लड़का-लड़की घुमने फिरने की प्लानिंग करते हैं, एक दुसरे के साथ समय बिताते हैं और अपने प्यार के सुंदर लम्हों को याद करते हैं.

13 फरवरी को किस डे हैं, यह वैलेंटाइन डे त्यौहार का 7वा दिन हैं, इस दिन लड़का अपने गर्लफ्रेंड को प्यार से किस करता हैं, अपने पार्टनर को प्यार से चूमने से प्यार और गहरा होता हैं.

  • 7 फरवरी –
  • वैलेंटाइन डे
  • रोज डे

7 फरवरी को वैलेंटाइन डे का त्यौहार हैं, वैलेंटाइन डे पूरेयह त्यौहार प्यार का प्रतीक हैं, पूरे विश्व मे बड़े धूमधाम से मनाया जाता हैं, इस त्यौहार में कुल 7 दिन होते है, पहला दिन रोज डे होता हैं. 

  • 5 फरवरी –
  • बंसत पंचमी त्यौहार

5 फरवरी को बसंत पंचमी का त्यौहार हैं, इस दिन कला और विद्या की देवी माँ सरस्वती की पूजा की जाती हैं, माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी का त्यौहार होता है.

पुरे भारत में यह त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता हैं, बसंत पंचमी के 40 दिन बाद होली त्यौहार मनाया जाता हैं.

  • 30 और 31 जनवरी –
  • मासिक शिवरात्रि

30 जनवरी को मासिक शिवरात्रि का त्यौहार हैं, आज शाम 5 बजे से मासिक शिवरात्रि शुरू होगा और 31 जनवरी को दोपहर 2 बजे तक रहेगा.

 मासिक शिवरात्रि के दिन व्रत रखकर भगवान शिव की पूजा करने से मनोवांछित फल प्राप्त होता हैं.

  • 14 जानवरी –
  • मकर सक्रांति
  • पोंगल

14 जानवरी को मकर सक्रांति और पोंगल का त्यौहार हैं, मकर सक्रांति को पुरे भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता हैं, इस दिन सूर्य मकर राशी में प्रवेश करता हैं, इस दिन लोग तिल के लड्डू और गुड का सेवन करते हैं.

वहीँ पोंगल दक्षिण भारत में बहुत ज्यादा मनाया जाता हैं, यह तमिल समुदाय के लिए बहुत ही खास त्यौहार हैं.

  • 13 जनवरी –
  • लोहड़ी त्यौहार

लोहड़ी त्यौहार पंजाबियों तथा हरयानी लोगो का प्रमुख त्यौहार में से एक है, लोहरी उत्तरी भारत में मनाया जाने वाला फसली त्योहार है.

लोहड़ी फसल के अंत का प्रतीक है, पंजाबी समाज में यह परंपरा अगले वर्ष अच्छी फसल आने की कामना के साथ मनाई जाती है।

  • 9 जनवरी –
  • गुरु गोविन्द सिंह जयंती

गुरु गोविन्द सिंह जयंती का त्यौहार हैं, सिख समुदाय में यह दिवस एक त्यौहार की तरह हैं, गुरु गोविन्द सिंह सिख समुदाय के दसवें और आखिरी गुरु थे.

  • 24 दिसंबर –
  • क्रिसमस ईव 

आज 24 दिसंबर को क्रिसमस ईव (Christmas Eve) का त्यौहार हैं, क्रिसमस ईव का त्यौहार क्रिसमस के 1 दिन पहले मनाया जाता हैं, क्रिसमस 12 दिन तक मनाया जाता हैं, जिसमें पहला दिन क्रिसमस ईव होता हैं और दूसरा दिन क्रिसमस होता हैं.

 क्रिसमस ईव की रात को युवाओं की टोली जिन्हें कैरल्स कहा जाता हैं, वे ईसा मसीह के जन्म से जुड़े गीतों को घर-घर जाकर गाते हैं।

  • 26 नवंबर –
  • ब्लैक फ्राईडे

26 नवम्‍बर को क्रिस्चन समुदाय का प्रमुख दिन ब्लैक फ्राईडे हैं, फ्राईडे मतलब शुक्रवार, कहा जाता हैं ईशा मसीह को इसी दिन सूली पर चढ़ाया गया था और उनकी मृत्यु हो गई थी, इसीलिए इस शुक्रवार को बहुत पवित्र मन जाता हैं, इसे गुड फ्राईडे या पवित्र फ्राईडे भी कहते हैं.

  • 15 नवंबर – देवउठनी एकादशी

आज 15 नवंबर को देवउठनी एकादशी का त्यौहार हैं, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु 4 महीने की निद्रा के बाद इस दिन उठते है और सृष्टि का संचालन करते हैं, एकादशी का त्यौहार हिन्दू धर्म में सबसे बड़ा त्यौहार हैं.

इस दिन लोग उपवास रखते हैं और गन्ने रखकर भगवान विष्णु की पूजा करते हैं.

भाई दूज का त्यौहार हैं, भाई दूज का त्यौहार हमारे देश में भाई और बहन के अटूट प्रेम और समर्पण को दर्शाता हैं.

  • 6 नवंबर – भाई दूज

इस दिन भाई अपने बहन के घर जाता हैं और बहने अपने भाई के लिए तरह-तरह के पकवान और व्यंजन बनाती हैं.

4 नवंबर को दीपावली का त्यौहार हैं, लक्ष्मी पूजा के दिन दिवाली का त्यौहार मनाया जाता हैं, दिवाली का त्यौहार हिन्दू धर्म में सबसे बड़ा त्यौहार हैं.

  • 4 नवंबर – लक्ष्मी पूजा

इस दिन माँ लक्ष्मी, भगवान गणेश और धन के देवता कुबेर की भी पूजा की जाती हैं, इस दिन विधिविधान से पूजा करने पर धन्य-धान्य और सुख-समृद्धि घर में आती हैं.

3 नवंबर को नरक चतुर्दशी का दिन हैं, नरक चतुर्दशी के दिन भगवान कृष्ण, माता काली, यम और हनुमान जी की पूजा की जाती हैं.

  • 3 नवंबर – नरक चतुर्दशी

नरक चतुर्दशी के दिवस को कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है, पौराणिक कथावों के अनुसार नरक वर्णित दैत्य राजा नरकासुर से संबंधित है और चतुर्दशी का अर्थ है चौदहवां दिन

पौराणिक कथा –

पुरानी कथाओं के अनुसार दैत्य नरकासुर ने वैदिक देवी अतिथि के राज्य को हड़प लिया था और वहां की महिलाओं को प्रताड़ित करने लगा,

उसके बाद नरकासुर के साथ भगवान विष्णु ने युद्ध किया और नरकासुर को मार गिराया, वहीँ कई लोगों का मानना हैं कि नरकासुर का वध माँ काली ने किया था, यहीं कारण हैं की इस दिन माता काली की भी पूजा की जाती है.

साथ ही कई लोगों का मानना हैं कि नरक चतुर्दशी के ही दिन भगवान हनुमान का जन्म हुवा था, इसीलिए इस दिन हनुमान जी की पूजा की जाती हैं.

2 नवंबर को धनतेरस का त्यौहार हैं, धनतेरस के दिन खरीददारी के लिए बहुत ही उपयुक्त माना जाता हैं.

  • 2 नवंबर – धनतेरस

इस दिन धन के देवता कुबेर देव, भगवान धनवंतरी और माँ लक्ष्मी की भी पूजा की जाती हैं, इस दिन सोना-चांदी, बर्तन, कपड़े, वाहन आदि चीजें खरीदने की परंपरा है.

28 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र हैं, यह दिन खरीददारी के लिए बहुत शुभ माना जाता हैं, साल 2021 के इस पुष्य नक्षत्र के दिन 677 साल बाद शनि और गुरू का महासंयोग बन रहा हैं, जो हर कार्य को शुभ बनाता हैं.

  • 28 अक्टूबर – पुष्य नक्षत्र

कोजागिरी पूर्णिमा का त्यौहार हैं, साल में कई पूर्णिमा आती हैं, लेकिन अश्विन मास की पूर्णिमा का विशेष महत्त्व हैं, इस दिन को शरद पूर्णिमा भी कहते हैं.

  • 20 अक्टूबर – कोजागिरी पूर्णिमा

इस दिन रात्रि जागरण का विशेष महत्त्व हैं, कोजागिरी का अर्थ होता हैं “जागरण”, कहते हैं कि इस दिन माँ लक्ष्मी रात्रि भ्रमण करती हैं और जिस घर में रात्रि जागरण करते हुए भगवान लक्ष्मी की पूजा की जाती हैं,

उस घर में माँ लक्ष्मी प्रवेश करती हैं और उस घर की गरीबी का नाश होता हैं और उस घर में सुख और समृद्धि आती हैं.

19 अक्टूबर को मिलाद-उन नबी का त्यौहार हैं, आज ही के दिन इस्लाम धर्म के संस्थापक पैगम्बर हजरत मोहम्मद का जन्म हुवा था.

  • 19 अक्टूबर – मिलाद उन नबी

ये दिवस मुस्लिम समुदाय के लोगों के लिए बहुत ही खास होता हैं, इस त्यौहार के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग मस्जिद जाते हैं, कुरान पढ़ते हैं, खुशिया मनाते हैं, जुलुस निकलते हैं और अच्छे-अच्छे पकवान बनाते हैं और गरीबों को खाना खिलाते हैं.

नवरात्री में महानवमी का त्यौहार हैं, आज नवरात्री पर्व का नौवा और आखिरी दिन हैं, आज के दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा की जाती हैं, आज के दिन कन्या भोजन का भी विधान होता हैं.

  • 14 अक्टूबर – महानवमी

महासप्तमी का त्यौहार हैं, यह नवरात्री का सातवा दिन हैं, इस दिन माता कालरात्रि की पूजा की जाती हैं, माता कालरात्रि को दुष्टों का विनाशक कहा जाता हैं. 

  • 12 अक्टूबर – नवरात्री में महासप्तमी

पितृ विसर्जन का त्यौहार हैं, यह दिवस अमावस्या के दिन होता हैं, इसीलिए इसे पितृ विसर्जन अमावस्या भी कहते हैं.

  • 6 अक्टूबर
  • पितृ विसर्जन त्यौहार

ऐसी मान्यता हैं कि इस दिन अपने पितरों की विदाई की जाती हैं, पूरा पितृपक्ष 15 दिनों का होता हैं, 15वे दिन पितरों को विदाई दी जाती हैं.

29 सितंबर को जीवित्पुत्रिका व्रत त्यौहार हैं, इस दिन महिलाए अपने संतानों की लम्बी आयु के लिए व्रत रखती हैं.

  •   29 सितंबर – जीवित्पुत्रिका व्रत

महालक्ष्मी व्रत का त्यौहार हैं, इस त्यौहार में व्रत रखने पर जीवन में धन-संपत्ति और सुख की प्राप्ति होती हैं. 

  • 28 सितंबर – महालक्ष्मी व्रत

इस दिन व्रत रखकर हाथी में विराजमान माता लक्ष्मी की पूजा की जाती हैं, इसे हाथी अष्टमी भी कहा जाता हैं.

पुराणी कथाओं के अनुसार जब पांडव अपना सब कुछ गवा दिए थे, तब भगवन श्रीकृष्ण ने उन्हें ये व्रत रखने को कहाँ था, ताकि वे अपना राजपाठ फिर से हासिल कर सके.

21 सितंबर से पितृपक्ष दिवस प्रारंभ हो जायेगा, जो 6 अक्टूबर तक चलेगा,हिंदू परंपरा के अनुसार इस दिवस के दौरान अपने स्वर्गिय पितरों की पूजा की जाती हैं. 

  • 21 सितंबर – पितृपक्ष दिवस प्रारंभ

इस दौरान लोग अपने पितरो की पूजा करते हैं, उनका श्राद्ध मनाते हैं और निर्धन और ब्राम्हणों को दान करते हैं.

19 सितंबर को अनंत चतुर्दशी का त्यौहार हैं, भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि पर अनंत चतुर्दशी मनाया जाता हैं. 

  • 19 सितंबर – अनंत चतुर्दशी

इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा की जाती हैं, इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा करने जीवन के सारे संकट दुसरे होते हैं.

पौराणिक कथावों के अनुसार जब पांडव राज्यविहीन हो गए थे तब भगवान श्रीकृष्ण ने उन्हें अनंत चतुर्दशी व्रत रखने के लिए कहा था, ताकि उनका राज्य उन्हें वापस मिल सके.

17 सितंबर को विश्वकर्मा पूजा हैं, भगवान विश्वकर्मा देवताओं के वास्तुकार हैं, भगवान विश्वकर्मा का जन्म कन्या संक्रांति को हुवा था, इसीलिए इस दिन को विश्वकर्मा जयंती भी कहते हैं.

  • 17 सितंबर – विश्वकर्मा पूजा

भगवान विश्वकर्मा को एक सिविल इंजिनियर भी कहाँ जाता हैं, जो देवताओं के लिए बेहतरीन भवन का निर्माण करते थे, इस दिन भगवान विश्वकर्मा के साथ-साथ सभी काम में आने वाले औजार और मशीन की पूजा की जाती हैं.

  • 22 अगस्त – रक्षाबंधन

22 अगस्त को रक्षाबंधन का त्यौहार हैं, पुरे भारत में रक्षाबंधन का त्यौहार का त्यौहार बड़े हर्षो-उल्लास के साथ मनाया जाता हैं.

रक्षाबंधन का त्यौहार भाई बहन के रिश्ते को समर्पित हैं, जिसमें बहन अपने भाई की कलाई में रक्षा सूत्र बांधती हैं, वहीँ भाई अपने बहन को रक्षा का वचन देता हैं.

ओणम का त्यौहार राजा बलि की की याद में मनाया जाता हैं, पौराणिक कहानियों के अनुसार राजा बलि के राज्य धनधान्य के संपन्न था,

तभी उनके पास भगवान विष्णु, वामन अवतार लेकर आए और दान माँगा, जिसपर राजा बलि ने अपने राज्य के साथ-साथ अपना शरीर भी भगवान को दान कर दिया और भगवान ने उनका उद्धार कर दिया.

ऐसी मान्यता हैं की राजा बलि हर साल ओणम के दिन अपनी प्रजा से मिलने आते हैं, उनकी आने की ख़ुशी में उस दिन सभी लोग अपना घर सजाते हैं, किसान अपने नई फसल के लिए खुशिया मनाते हैं.

आज 20 अगस्त को मुहर्रम का त्यौहार मनाया जाता है, इसे ताजिया भी कहते हैं, यह मुस्लिम धर्म का प्रमुख त्यौहार हैं, इसी दिन मुस्लिम धर्म के नए साल की शुरुवात होती हैं. 

  • 20 अगस्त – मुहर्रम

13 अगस्त को नाग पंचमी मनाया जाता हैं, हिंदू धर्म में नाग पंचमी का बहुत ही विशेष महत्त्व हैं, इस दिन लोग भगवान नाग की पूजा करते हैं और जगह-जगह उनके लिए दूध रखा जाता हैं.

  • 13 अगस्त – नाग पंचमी

आज कौन सा त्यौहार हैं 2021 | aaj kaun sa tyohar hai | आज कौन सा पर्व है 2021

11 अगस्त को हरियाली तीज का त्यौहार मनाया जाता हैं, इस त्यौहार का हिंदू धर्म में बहुत खास महत्त्व हैं.

  • आज का त्यौहार – हरियाली तीज
  • तारीख – 11 अगस्त
  • दिन – बुधवार

इस दिन सभी सुहागिन महिलाए व्रत रखती हैं और भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करती हैं, सावन के महीने में ही भगवान शिव ने माता पार्वती को पत्नी के रूप में स्वीकार किया था और माता पार्वती को वरदान दिया था. 

3 thoughts on “आज कौन सा त्यौहार है 2023 | aaj kaun sa tyohar hai 2023 | आज क्या है त्यौहार”

Leave a Comment